Home खुलासा ...तो फर्जी था अरबों का एनएच-74 घोटाला !

…तो फर्जी था अरबों का एनएच-74 घोटाला !

संदेह वाले आईएएस और पीसीएस मलाईदार पदों पर

जेल गए पीसीएस अफसरों भी की पदोन्नति

अभी भी हाईकोर्ट में विचाराधीन है मामला

देहरादून। कांग्रेस सरकार के समय में सामने आए एनएच-74 में अरबों के घोटाले के अफसरों की फिलवक्त पौ-बारह है। निलंबित किए गए और जेल गए सभी अफसर इस समय मलाईदार पदों पर काबिज हैं। आलम यह है कि अब इन्हें पदोन्नति भी दी जा रही है।

2017 के आम चुनाव से पहले ऊधमसिंह नगर जिले में जमीनों के खेल में अऱबों का यह घोटाला खासा चर्चा में रहा। एसआईटी ने अपनी जांच में कुछ आईएएस और कई पीसीएस अफसरों के साथ ही निचले स्तर के कर्मियों को भी दोषी पाया। कई जेल भी गए। चुनाव के बाद सीएम बने त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस घोटाले की सीबीआई जांच की सिफारिश की। लेकिन केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने यह जांच नहीं होने दी।

उस समय एसआईटी जांच की निगरानी कर रहे ऊधमसिंह नगर के एसएसपी सदानंद दाते और जांच अधिकारी स्वतंत्र कुमार आला अफसरों के दवाब में नहीं आए और जांच में तमाम अफसरों के नाम शुमार कर दिए। मजबूरन सरकार ने दो आईएएस अफसरों को निलंबित किया और कई पीसीएस अफसरों को जेल जाना पड़ा। दाते के केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर जाने का आदेश आते ही यह साफ हो गया था कि अब कुछ होने वाला नहीं है।

वक्त गुजरा और नियमों की दुहाई देकर अफसरों को न केवल बहाल किया गया, बल्कि उन्हें प्राइज पोस्टिंग भी दे दी गई। यह मामला इस वजह से फिर से गर्म हुआ क्योंकि मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली डीपीसी ने जेल गए दो पीसीएस अफसरों की पदोन्नति की सिफारिश कर दी है।

ऐसे में सवाल यह है कि क्या घोटाला हुआ ही नहीं। अगर नहीं हुआ तो क्या एसआईटी जांच फर्जी थी। अगर नहीं हुआ तो तमाम किसानों से अरबों रुपये सरकारी खजाने में वापस जमा क्यों किए। अगर कोई गड़बड़ी नहीं थी तो अफसरों को निलंबित क्यों किया गया। सवाल यह भी है कि निलंबित किए गए और जेल गए अफसर अपनी बदनामी के खिलाफ किसी सक्षम अदालत में मुकदमा दर्ज कर क्यों नहीं बेदाग होने का सर्टिफिकेट हासिल कर लेते हैं।

जाहिर है कि अरबों रुपये के इस घोटाले का जिन्न फिलवक्त बोतल में बंद होता दिख रहा है। जीरों टॉलरेंस की बात करने वाली भाजपा की सरकार भी साढ़े चार साल में संदेह के घेरे में आए अफसरों की पैरोकारी करती ही दिख रही है।

एक्टिविस्ट अखिलेश डिमरी की फेसबुक पोस्ट

एक्टिविस्ट अखिलेश डिमरी ने अपनी फेसबुक पोस्ट पर लिखा “बधाइयां,बधाइयां, बधाइयां। नए मुख्य सचिव महोदय की अध्यक्षता में प्रश्नगत पीसीएस अफसरों को प्रमोशन मिलने के ग्रीन सिग्नल की बधाइयां।  हुजूर तदर्थ की क्या जरूरत थी। इनके पराक्रम को देखते हुए तो डीपीसी की भी जरूरत नहीं थी। सीधे-सीधे लेटरल इंट्री दी जानी चाहिए थी और वो भी आईएएस काडर में। कोई बात नहीं देर आयद दुरस्त आयद। हम नए नियम भले ही न बना पाए पर पुराने नियमों का हवाला तो दे ही सकते हैं।

संबंधित खबरें….एनएचएआई को नहीं भाया ‘आप’ का जनहित

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड में फायर सर्विस कार्मिकों के 36 प्रतिशत पद रिक्त

फायरमैन के 45 फीसदी से अधिक पद खाली  नदीम उद्दीन को उपलब्ध कराई सूचना से  खुलासा

राज्य उपभोक्ता आयोग ने दिलवाया 178 प्रतिशत भुगतान

2.19 लाख का क्लेम किया था निरस्त उपभोक्ता को मिला 3.91 लाख का भुगतान 

हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर मंथन

निष्कर्षः भारतीय इतिहास किया गया खुर्द-खुर्द हल्द्वानी। हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर चर्चा में...
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

हर साल झांकी में संयुक्त निदेशक चौहान की रहती है अहम भूमिका

अब तक 13 झांकियों का कर चुके नेतृत्व अब तक पांच राष्ट्रपतियों से कर चुके हैं भेंट

गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी को मिला प्रथम स्थान

मानसखंड थीम पर तैयार की गई थी झांकी सीएम धामी ने खुद सुझाई थी इसकी थीम

उत्तराखंड में बेतहाशा बढ़े वोटरों की जांच कराएगा चुनाव आयोग

राज्य आयोग ने जिलों को भेजे निर्देश एडीसी फाउंडेशन की मांग पर केंद्रीय आयोग ने दिया है...

30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण मिलने पर सूबे की मातृशक्ति में खुशी

महिलाओं ने सीएम धामी का जताया आभार देहरादून। मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश...