Home खुलासा …तो कुंभ कोविड जांच घोटाले में सिस्टम बेदाग !

…तो कुंभ कोविड जांच घोटाले में सिस्टम बेदाग !

सवालः बगैर कंपनी की जांच कैसे दिया जांच का जिम्मा

एक अंग्रेजी दैनिक खोल रहा है जांच कंपनी का चिट्ठा

मीडिया की पड़ताल में नहीं मिला कंपनी का दफ्तर

पते में भीकाजी कामा पैलैस को बताया ईस्ट दिल्ली में

एफआईआर में कंपनी और लैब को ही बनाया आरोपी

निगरानी करने वाले अफसरों का भी नहीं कोई जिक्र

पत्रकार अजीत अंजुम ने भी वीडियो किया वायरल

देहरादून। हरिद्वार कुंभ के दौरान कोविड जांच के मामले में एक कंपनी और दो लैब के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई गई है। सवाल यह है कि क्या इस घोटाले में सिस्टम से जुड़े लोग बेदाग हैं। सवाल यह भी है कि बगैर कंपनी के बारे में पड़ताल किए ही आमजन के जीवन से जुड़े मामले का ठेका कैसे दे दिया गया। मीडिया की पड़ताल में इस कंपनी के बारे में कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। सीएम तीरथ सिंह रावत का कहना है कि यह मामला उनके सीएम बनने से पहले का है। जांच हो रही है और दोषियों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा। वहीं पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का कहना है कि यह कोई भूल नहीं है। यह एक गंभीर आपराधिक मामला है।

देशभर में चर्चा का विषय बने कुंभ के दौरान जांच फर्जीवाड़े के मामले में हरिद्वार के मुख्य चिकित्साधिकारी ने एक एफआईआर कराई है। इसमें कहा गया है कि आईसीएमआर से मिली एक शिकायत की जांच कराई गई। तो पाया गया कि रैपिड ऐंटिजन टेस्ट के लिए सैंपल कलेक्शन सेंटर का नाम  मै. मैक्स कॉरपोरेट सर्विस, कुंभ मेला है इसकी जांच नलवा लैबोरेट्रीज प्राइवेट लिमिटेड हिसार ने की है। आगे की जांच में पाया गया कि दिनांक 13 अप्रैल 2021 से 16 मई, 2021 के बीज उक्त फर्म ने कुंल 1,04,796 सैंपल लिए। इनमें पॉजिटिविटी मात्र 0.18 फीसदी पाई गई। यह उक्त अवधि की हरिद्वार की सामान्य पॉजिटिविटी 5.3 फीसदी से काफी कम है। यह संदेह पैदा करता है। फर्म ने कुंभ मेला समाप्त होने के बाद भी एक से 15 मई तक पोर्टल पर की गई हैं। इसके अलावा भी कंपनी और लैब पर कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं।

अब सवाल यह उठ रहा है कि जब हरिद्वार में पॉजिटिविटी बेहद कम आई तो सिस्टम से जुड़े अफसर क्यों सोते रहे। उस दौरान भी इसका सोशल आडिट कराने की मांग की गई। लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया गया। अब एफआईआर में कहा जा रहा है कि पाजिटिविटी कम होने पर संदेह हुआ। इस मामले में एक टाइम्म आफ इंडिया की टीम ने एक अहम पड़ताल की। अखबार ने अपनी रपट में छापा है कि नोयडा के सेक्टर 66 में जहां कंपनी ने अपना दफ्तर बताया है वहां मौके पर एक टिनशैड पाया गया। कंपनी ने अपना पता अंसल चैंबर, भीकाजी कामा पैलेस, ईस्ट दिल्ली लिखा है। जबकि ईस्ट दिल्ली में भीकाजी कामा पैलैस है ही नहीं। कहा तो यहां तक जा रहा है कि कोविड टेस्ट के लिए यह कंपनी आईसीएमआर से अधिकृत नहीं है। लेकिन किसी दूसरी कंपनी से टाइअप दिखाकर इसे ठेका दे दिया गया। वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने अपने यू-ट्यूब चैनल में टाइम्स आफ इंडिया की रिपोर्ट के आधार पर आधा घंटा का एक शो भी वायरल किया है। ऐसे में सवाल यह उठ रहा है कि क्या सीएमओ की ओर से दर्ज कराई गई इस एफआईआर के आधार पर इस बहुत बड़े फर्जीवाड़े के असली मगरमच्छ कानून की गिरफ्त में आ सकेंगे।

संबंधित खबर—-हरिद्वार कुंभ में कोरोना जांच शुरू से संदिग्ध

संबंधित खबर हरिद्वारःकोरोना संक्रमण का हो थर्ड पार्टी ऑडिट

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड में फायर सर्विस कार्मिकों के 36 प्रतिशत पद रिक्त

फायरमैन के 45 फीसदी से अधिक पद खाली  नदीम उद्दीन को उपलब्ध कराई सूचना से  खुलासा

राज्य उपभोक्ता आयोग ने दिलवाया 178 प्रतिशत भुगतान

2.19 लाख का क्लेम किया था निरस्त उपभोक्ता को मिला 3.91 लाख का भुगतान 

हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर मंथन

निष्कर्षः भारतीय इतिहास किया गया खुर्द-खुर्द हल्द्वानी। हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर चर्चा में...
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

हर साल झांकी में संयुक्त निदेशक चौहान की रहती है अहम भूमिका

अब तक 13 झांकियों का कर चुके नेतृत्व अब तक पांच राष्ट्रपतियों से कर चुके हैं भेंट

गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी को मिला प्रथम स्थान

मानसखंड थीम पर तैयार की गई थी झांकी सीएम धामी ने खुद सुझाई थी इसकी थीम

उत्तराखंड में बेतहाशा बढ़े वोटरों की जांच कराएगा चुनाव आयोग

राज्य आयोग ने जिलों को भेजे निर्देश एडीसी फाउंडेशन की मांग पर केंद्रीय आयोग ने दिया है...

30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण मिलने पर सूबे की मातृशक्ति में खुशी

महिलाओं ने सीएम धामी का जताया आभार देहरादून। मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश...