Home खुलासा उत्तराखंड में फायर सर्विस कार्मिकों के 36 प्रतिशत पद रिक्त

उत्तराखंड में फायर सर्विस कार्मिकों के 36 प्रतिशत पद रिक्त

फायरमैन के 45 फीसदी से अधिक पद खाली 

नदीम उद्दीन को उपलब्ध कराई सूचना से  खुलासा

देहरादून। इमरजेंसी सेवा मजबूत होने के कितने ही दावे किए जाएं। लेकिन वास्तविकता में अग्निशमन एवं आपात सेवा के कार्मिकों के 36 प्र्रतिशत पद रिक्त हैं। फायरमैन के तो अधिकतर जिलों में आधे से अधिक पद रिक्त है। ऐसे में आपात सेवा में मजबूत होने की कैसे उम्मीद की जा सकती है।

काशीपुर निवासी वरिष्ठ अधिवक्ता और सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन ने प्रदेश में फायर सर्विस के  कार्मिकों के स्वीकृत, कार्यरत व रिक्त पदों की सूचना मांगी। सूचना के अनुसार प्रदेश में उपनिदेशक (तकनीकी) का एक पद स्वीकृत है और भरा हुआ है। मुख्य अग्नि शमन अधिकारी (सी.एफ.ओ.) के 9 पद हैं और केवल चार ही तैनात है। केवल देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल व उधमसिंह नगर जिलों में सी.एफ.ओ. तैनात हैं। बाकी सभी जिलों में पद रिक्त हैं। 

फायर स्टेशन आफिसर के 35 पद स्वीकृत है लेकिन केवल सात फायर स्टेशनों पर ही एफ.एस.ओ. तैनात हैं। फायर स्टेशन सेकेंड आफिसर के 50 में से 26 पद रिक्त है। लीडिंग फायर मैन के 162 स्वीकृत पदों में से 15 पद रिक्त है। फायर मैन के 998 पद स्वीकृत है जबकि 34 प्रतिशत से अधिक 455 पद रिक्त है और केवल 543 फायरमैन ही कार्यरत है।  

नदीम को मिली जिलावार सूचना के अनुसार गढ़वाल मण्डल में चमोली जिले में अग्निशमन एवं आपात सेवा के 99 कार्मिकों के स्वीकृत पदों में से केवल 48 कर्मचारी कार्यरत है और 52 प्रतिशत 51 पद रिक्त है जबकि रूद्रप्रयाग जिले में 38 में से केवल 22 कर्मचारी कार्यरत है और 42 प्र्रतिशत 16 पद रिक्त हैं। पौड़ी गढ़वाल जिले में 96 में से 49 कार्यरत हैं जबकि 49 प्रतिशत 47 पद रिक्त है। उत्तरकाशी में 81 में से 61 कार्यरत है तथा 25 प्रतिशत 20 पद रिक्त हैं। टिहरी गढ़वाल में 86 में से 58 कार्यरत हैं तथा 33 प्रतिशत 28 पद रिक्त है। देहरादून में 267 में से 147 पद कार्यरत हैं तथा 45 प्रतिशत 120 पद रिक्त हैं। हरिद्वार जिले में 160 में से 105 पद कार्यरत हैं 34 प्रतिशत 55 पद रिक्त हैं।  कुमाऊं मण्डल के अल्मोड़ा जिले में 76 में से 47 पद कार्यरत है जबकि 38 प्रतिशत 29 पद रिक्त हैं, बागेश्वर जिले में 61 में से 49 पद कार्यरत हैै तथा 20 प्रतिशत 12 पद रिक्त है। चम्पावत   जिले में 72 में से 67 पद कार्यरत है तथा 7 प्रतिशत 5 पद रिक्त हैं। पिथौरागढ़ जिले में 61 में से 37 पद कार्यरत है तथा 39 प्रतिशत 24 पद रिक्त है। नैैनीताल जिले में 112 में से 104 पद कार्यरत हैै तथा 7 प्रतिशत 8 पद रिक्त हैै जबकि उधमसिंह नगर जिले में कुल 245 स्वीकृत पदों में से 129 पदों पर कर्मचारी, अधिकारी ही कार्यरत है जबकि 47 प्रतिशत 116 पद रिक्त है।

RELATED ARTICLES

राज्य उपभोक्ता आयोग ने दिलवाया 178 प्रतिशत भुगतान

2.19 लाख का क्लेम किया था निरस्त उपभोक्ता को मिला 3.91 लाख का भुगतान 

हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर मंथन

निष्कर्षः भारतीय इतिहास किया गया खुर्द-खुर्द हल्द्वानी। हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर चर्चा में...

‘दागी अफसरों’ पर जमकर बरसी ‘मेहर’

गन्ना, आयुष और तकनीकी शिक्षा विभाग में ‘खेल’ अफसर भी ‘नाचते’ रहे मंत्रियों के इशारों पर
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

हर साल झांकी में संयुक्त निदेशक चौहान की रहती है अहम भूमिका

अब तक 13 झांकियों का कर चुके नेतृत्व अब तक पांच राष्ट्रपतियों से कर चुके हैं भेंट

गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी को मिला प्रथम स्थान

मानसखंड थीम पर तैयार की गई थी झांकी सीएम धामी ने खुद सुझाई थी इसकी थीम

उत्तराखंड में बेतहाशा बढ़े वोटरों की जांच कराएगा चुनाव आयोग

राज्य आयोग ने जिलों को भेजे निर्देश एडीसी फाउंडेशन की मांग पर केंद्रीय आयोग ने दिया है...

30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण मिलने पर सूबे की मातृशक्ति में खुशी

महिलाओं ने सीएम धामी का जताया आभार देहरादून। मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश...