Home खुलासा पहले भी टिहरी सरकार नियुक्त करती थी रावल

पहले भी टिहरी सरकार नियुक्त करती थी रावल

राज्य के मुख्य सचिव का 1934 का एक पत्र हुआ वायरल

देवस्थानम् बोर्ड मसले में आ सकता है नया मोड़

देहरादून। एक तरफ देवस्थानम् बोर्ड का विरोध हो रहा है तो दूसरी ओर टिहरी गढ़वाल राज्य के मुख्य सचिव का 1934 का एक पत्र वायरल हो रहा है। इसमें लिखी भाषा से साफ है कि उस वक्त भी बदरीनाथ धाम के रावल की नियुक्ति राज्य सरकार ही करती है। ऐसे में सवाल यह उठ रहा है कि दशकों से सरकार ही ऐसा कर रही है तो अब देवस्थानम् बोर्ड का विरोध क्यों।

उक्त पत्र सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। टिहरी गढ़वाल राज्य के मुख्य सचिव, नरेंद्र नगर टिहरी की ओर से राज्य के पॉलिटिकल एजेंट को 23 मार्च-1934 को एक खत लिखा गया था। इस खत में कहा गया है कि रावल की नियुक्ति पर सवाल उठाना सही नहीं है। वर्तमान रावल शारीरिक समस्या के चलते अपना काम नहीं पा रहे थे और उन्होंने इसके लिए एक मैनेजर की नियुक्ति कर दी थी। मंदिर मैनेजमेंट स्कीम में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है। इस खत के साथ रावल की नियुक्ति का आदेश भी संलग्न किया गया था।

इस पर यकीन किया जाए तो कहा जा सकता है कि आज से 90 साल पहले भी चारधामों पर सरकार का ही नियंत्रण था। यह खत ऐसे वक्त में वायरल हो रहा है, जबकि देवस्थानम् बोर्ड को लेकर तीर्थ पुरोहित खासा विरोध कर रहे हैं। सरकार की ओर से इस मामले को निपटाने के लिए पूर्व सांसद मनोहर कांत ध्यानी की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय कमेटी भी बनाई जा चुकी है। भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने इस बोर्ड की खिलाफ नैनीताल हाईकोर्ट में एक याचिका डाली थी। वहां से खारिज होने के बाद हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की जा चुकी है। यह मामला अभी भी विचाराधीन है।

 नोटः- खबर पत्र के आधार पर ही लिखी गई है। न्यूज वेट इस पत्र के सही होने की पुष्टि नहीं करता।

RELATED ARTICLES

उत्तराखंड में फायर सर्विस कार्मिकों के 36 प्रतिशत पद रिक्त

फायरमैन के 45 फीसदी से अधिक पद खाली  नदीम उद्दीन को उपलब्ध कराई सूचना से  खुलासा

राज्य उपभोक्ता आयोग ने दिलवाया 178 प्रतिशत भुगतान

2.19 लाख का क्लेम किया था निरस्त उपभोक्ता को मिला 3.91 लाख का भुगतान 

हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर मंथन

निष्कर्षः भारतीय इतिहास किया गया खुर्द-खुर्द हल्द्वानी। हल्द्वानी लिटरेचर फेस्टिवल में भारतीय इतिहास और विवाद पर चर्चा में...
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -
- Advertisment -

Most Popular

हर साल झांकी में संयुक्त निदेशक चौहान की रहती है अहम भूमिका

अब तक 13 झांकियों का कर चुके नेतृत्व अब तक पांच राष्ट्रपतियों से कर चुके हैं भेंट

गणतंत्र दिवस परेड में उत्तराखंड की झांकी को मिला प्रथम स्थान

मानसखंड थीम पर तैयार की गई थी झांकी सीएम धामी ने खुद सुझाई थी इसकी थीम

उत्तराखंड में बेतहाशा बढ़े वोटरों की जांच कराएगा चुनाव आयोग

राज्य आयोग ने जिलों को भेजे निर्देश एडीसी फाउंडेशन की मांग पर केंद्रीय आयोग ने दिया है...

30 फीसदी क्षैतिज आरक्षण मिलने पर सूबे की मातृशक्ति में खुशी

महिलाओं ने सीएम धामी का जताया आभार देहरादून। मुख्यमंत्री कैम्प कार्यालय स्थित मुख्य सेवक सदन में भाजपा प्रदेश...