Home 115 साल पहले काशीपुर में लगी थी कपास मिल

115 साल पहले काशीपुर में लगी थी कपास मिल

90 साल पहले फैली थी प्लेग महामारी और अब कोरोनाःबधवार

वरिष्ठ पत्रकार सुरेश शर्मा की कलम से

कुमाऊं की पहली इंडस्ट्री आज से 115 वर्ष पहले काशीपुर में बंका मल्ल कपास मिल  काशीपुर के नाम से लगी थी। काशीपुर के इतिहास पर चर्चा करते हुए होटल कुमाऊं प्लाजा के संस्थापक स्वामी आनंद गोपाल बधवार  ने यह जानकारी दी।

बधवार ने बताया कि यहां कपास मिल उनके परदादा राय साहब गोपीमल ने लगाई थी। कुमाऊं के तत्कालीन कमिश्न एडब्ल्यु शेक्सपियर ने वर्ष 1905 में उनके दादा जी को बुलाकर काशीपुर के तराई क्षेत्र में इंडस्ट्री लगाने को कहा था।

राय साहब गोपीमल जी फिरोजपुर ( पंजाब) के निवासी थे। उस समय भारत पाकिस्तान एक था। राय साहब उस समय कॉटन मैग्नेट के रूप में पहचाने जाते थे। राय साहब ने काशीपुर में यह मिल अपने बेटे बंकामल के नाम से लगाई थी। आनंद गोपाल बधवार ने बताया की उस समय 99 बीघे का बाग़ बाजपुर रोड पर और रामनगर रोड पर चांदपुर, गोपिपुरा परतापुर   राजस्व गांव पंडा  परिवार से  खरीदे थे। काशीपुर में सौ मशीनों वाली एक कपास मिल यूके मैनचेस्टर प्लेट ब्रॉडर्स कंपनी से नौ लाख में मंगाकर लगाई गई थी। इसमें बंकामल मार्का की कपास तैयार की जाती थी। इस मिल में 105 फीट ऊंची चिमनी लगाई गई थी। आज भी मौजूद है। उन दिनों बैंक नहीं होते थे और सारा कैश लोहे की तिजोरी में रखा जाता था। यह तिजोरी आज भी मौजूद है।

उन्होंने बताया कि वर्ष 1931 में काशीपुर में प्लेग की महामारी फैली थी। उस समय काशीपुर के सैकड़ों लोगों ने इसी मिल में शरण ली थी। प्लेग महामारी से हजारों लोगों की जान गई थी। बाद में प्लेग के कारण ही इस मिल को बंद करना पड़ा था। आज 90 साल बाद वहीं हालत काशीपुर में बने है। करोना महामारी के कारण सारा कारोबार चौपट हो चुका है। तमाम इंडस्ट्री का भी यही हाल है। इससे निपटने के लिए सभी को सामूहिक रूप से प्रयास करने होंगे।

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

आईपीएस के कदम से सरकार ‘खफा’ !

सीएम त्रिवेंद्र ने संतुलित अंदाज में जताई अपनी असहमति दो विधायकों ने अफसर की कार्यशैली पर उठाए...

विधायक को पुलिस कार्यशैली में आई भ्रष्टाचार की ‘बू’

चीमा बोले, अज्ञात में मुकदमा दर्ज करने से लोग हो रहे परेशान विस में उठाऊंगा ये मामलाः...

कोरोनाः उत्तराखंड में प्लाज्मा थैरेपी शुरू

ऋषिकेश एम्स बना उत्तराखंड का पहला प्लाज्मा डोनेट सेंटर  देहरादून। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में कॉनवेल्सेंट...

केदारधाम की ब्रह्मकमल वाटिका पर ‘कोरोना ग्रहण’

देख-देख न हो सकी तो मुरझा गए यहां खिले तमाम राज्य पुष्प देहरादून। केदारनाथ धाम स्थित पुलिस कैंप...

Related News

आईपीएस के कदम से सरकार ‘खफा’ !

सीएम त्रिवेंद्र ने संतुलित अंदाज में जताई अपनी असहमति दो विधायकों ने अफसर की कार्यशैली पर उठाए...

विधायक को पुलिस कार्यशैली में आई भ्रष्टाचार की ‘बू’

चीमा बोले, अज्ञात में मुकदमा दर्ज करने से लोग हो रहे परेशान विस में उठाऊंगा ये मामलाः...

कोरोनाः उत्तराखंड में प्लाज्मा थैरेपी शुरू

ऋषिकेश एम्स बना उत्तराखंड का पहला प्लाज्मा डोनेट सेंटर  देहरादून। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश में कॉनवेल्सेंट...

केदारधाम की ब्रह्मकमल वाटिका पर ‘कोरोना ग्रहण’

देख-देख न हो सकी तो मुरझा गए यहां खिले तमाम राज्य पुष्प देहरादून। केदारनाथ धाम स्थित पुलिस कैंप...

कोरोनाः उत्तराखंड में गिर रहा रिकवरी रेट

जुलाई की शुरुआत में 81 से अंत में रहा गया महज 58 फीसदी हरिद्वार और यूएस नगर...