Home तस्वीर का सच केदारधाम की ब्रह्मकमल वाटिका पर ‘कोरोना ग्रहण’

केदारधाम की ब्रह्मकमल वाटिका पर ‘कोरोना ग्रहण’

देख-देख न हो सकी तो मुरझा गए यहां खिले तमाम राज्य पुष्प

देहरादून। केदारनाथ धाम स्थित पुलिस कैंप में स्थापित ब्रह्म वाटिका को भी कोरोना का ग्रहण लग गया है। देखरेख के अभाव में इस वाटिका में खिले ब्रह्मकमल भी मुऱझा गए हैं। अहम बात यह भी है कि इस ब्रह्मवाटिका की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी तारीख कर चुके हैं।

केदारधाम परिसर में ही मंदाकिनी नदी के किनारे पर इस ब्रह्म वाटिका की स्थापना वर्ष 2015 में की गई थी। यह समुद्रतल से करीब 11,750 फीट की ऊंचाई पर मध्य हिमालय की तलहटी में बसे केदार धाम में है। इसकी देखरेख के लिए यहां पुलिस के जवानों की नियमित ड्यूटी तय की गई है। पहली बार यहां सात ब्रह्मकमल के छोटे पौधे रोपे गए थे। वर्ष 2016 में वाटिका में पहला ब्रह्मकमल का पुष्प खिला। वर्ष 2017 में जून माह के पहले सप्ताह में ही वाटिका में ब्रह्म कमल के पांच पौधों पर एक साथ फूल खिले थे।

अब इस हाल में है केदारधाम की ब्रहमकमल वाटिका

इन दिनों इस ब्रह्मवाटिका को कोरोना का ग्रहण सा लग गया है। रुद्रप्रयाग के पुलिस अधीक्षक नवनीत भुल्लर ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि पहले सर्दियों और फिर बाद में कोविड-19 के चलते धाम में मौजूदगी बेहद कम रही। इसी वजह से वाटिका की देख-रेख न हो सकी। नतीजा यह रहा कि वाटिका में ब्रह्मकमल खत्म हो गए हैं। इस वाटिका को फिर से तैयार किया जा रहा है।

यहां बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस वाटिका में आकर पुलिस के प्रयासों की सराहना कर चुके हैं। इस वाटिका भी पीएम मोदी के केदाराधाम विकास के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है। इसके लिए केंद्र सरकार ने भी 50 लाख रुपये दिए हैं। यहां राज्य पुष्प ब्रह्मकमल के साथ ही जड़ी-बूटी उत्पादन की भी योजना है।

साभार-एएनआई न्यूज एजेंसी

Stay Connected

16,985FansLike
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

एलर्टः निजी लैब में ज्यादा हैं पॉजिटिव केस

सरकारी लैब की तुलना में डेढ़ फीसदी से अधिक हैं कोरोना के मामले अफसरों ने सीमा पर...

आठ हजार परिवारों की बल्ले-बल्ले

सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कोई भी नहीं होगा अपनी जमीन से बेदखल काबीना मंत्री यशपाल और अरविंद...

उत्तराखंड ने केंद्र से मांगे 10 हजार आक्सीजन सिलेंडर

कोरोना के बढ़ते संकट के मद्देनजर सरकार आई एलर्ट मोड में राज्य के पास महज 60 क्यूबिक...

उत्तराखंडः निजी लैब में ज्यादा है संक्रमण दर

13 दिन में सरकारी जांच में 8.61 और निजी में 9.78 फीसदी संक्रमण इस अवधि में 1.30...

Related News

एलर्टः निजी लैब में ज्यादा हैं पॉजिटिव केस

सरकारी लैब की तुलना में डेढ़ फीसदी से अधिक हैं कोरोना के मामले अफसरों ने सीमा पर...

आठ हजार परिवारों की बल्ले-बल्ले

सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कोई भी नहीं होगा अपनी जमीन से बेदखल काबीना मंत्री यशपाल और अरविंद...

उत्तराखंड ने केंद्र से मांगे 10 हजार आक्सीजन सिलेंडर

कोरोना के बढ़ते संकट के मद्देनजर सरकार आई एलर्ट मोड में राज्य के पास महज 60 क्यूबिक...

उत्तराखंडः निजी लैब में ज्यादा है संक्रमण दर

13 दिन में सरकारी जांच में 8.61 और निजी में 9.78 फीसदी संक्रमण इस अवधि में 1.30...

राज्य की भौगोलिक परिस्थितियों के हिसाब से बने योजना

11 सदस्यीय सीएम सलाहकार समूह की पहली बैठक में आए सुझाव राज्य में लौटे प्रवासियों पर रहा...
error: Content is protected !!